UP मजदूर योजना 2021, ऑनलाइन आवेदन, मजदूर भत्ता योजना की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

UP Majdur Yojana 2021:- जैसा की आप सब को मालूम है की देशभर में कोरोनावायरस (COVID-19) फैला हुआ है जिसके कारण काफी जगह लॉकडाउन कर दिया गया है। लॉकडाउन के चलते दिहाड़ी मजदूर की जिंदगी मुश्किलों से घिर गई है!

इसी को देखते हुए राज्य के नागरिकों के लिए यूपी सरकार के द्वारा मजदूर योजना शुरू की गई है। जिसमें इन लोगों को एक निश्चित राशि सीधे उनके बैंक खाते में भेजी जाएगी।

उत्तर प्रदेश सीएम योगी आदित्यनाथ के द्वारा दिहाड़ी मजदूर यानी ऐसे मजदूर जो रोज श्रम कर पैसा कमाते हैं और केवल श्रम के बदौलत ही उनका घर चल पाता है, को 1000 प्रति व्यक्ति देने का निर्णय लिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कहना है, 15 लाख दिहाड़ी मजदूर UP श्रम विभाग में पंजीकृत हैं।

राज्य सरकार की ओर से इनको एक हजार रूपये की धनराशि के रूप में आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी। बड़ी बड़ी कंपनियों ने भी अपने वर्करो को घरों में रह कर काम करने की इजाजत दे दी है।

इस योजना के तहत नगर विकास के 16 लाख दिहाड़ी सफाई कर्मचारी, 58000 ग्राम सभाओ में 20-20 मजदूर लिए जायेगे। ये धनराशि सीधे लाभार्थियों के बैंक खाते में भेजी जायेगी।

UP Majdur Yojana 2021

प्रेस कांफ्रेंस में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा था कि दैनिक कार्य करने वाले विभिन्न श्रेणियों के मजदूरों (फेरी वाले, निर्माण कार्य करने वाले, ई-रिक्शा चालक, रिक्शा चालक, खोमचे वाले, रेहड़ी वाले और पोर्टर्स) को CM भरण पोषण योजना के तहत अभी तक 8,17,55,000 रुपए की धनराशि जारी की गई है।

इसी क्रम में यूपी सरकार की ओर से 11 लाख से अधिक निर्माण श्रमिकों के बैंक खाते में 1000 रूपये की धनराशि वितरित की जा चुकी है। इसी क्रम में श्रम विभाग में पंजीकृत 20.37 लाख श्रमिकों को भरण-पोषण के DBT माध्यम से 1000 रूपये लाभार्थी के बैंक अकाउंट में भेज जा रहे हैं।

UP Majdur Yojana 2021:-

योगी मजदुर योजना की हाइलाइट-

योजना का नाममजदूर भत्ता योजना
आरम्भ की गईमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा
लाभार्थीप्रदेश के श्रमिक
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यश्रमिकों को भरण-पोषण के लिए आर्थिक मदद
लाभ1000 रु. आर्थिक सहायता
श्रेणीUP सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटuplabour.gov.in/

UP Majdur Yojana उद्देश्य-

गौरतलब है कि भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) दिनों दिन बढ़ता जा रहा है जिसके चलते कामकाज धीमा हो गया है और मजदूरों का दूसरे राज्यो से पलायन का सिलसिला बना हुआ है। इस स्थिति में प्रदेश में लौटने वाले मजदूरों को काम नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में किसानो को भरण-पोषण की समस्याओ का सामना करना पड़ रहा है।

इन सभी समस्याओ को देखते हुए मजदूर भत्ता योजना की शुरुआत की गयी है। जिसके तहत राज्य के गरीब दिहाड़ी मजदूर और निर्माण श्रमिक (रिक्शा वाले, खोमचे वाले, रेहड़ी वाले, फेरी वाले, निर्माण कार्य करने वाले) को यूपी सरकार द्वारा 1000 रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

इसके साथ ही श्रमिकों के परिवार को 20 किलो गेहूं और 15 किलो चावल सरकार फ्री में प्रदान करेगी। इस तरह यह योजना श्रमिकों की समस्याओ को काम करने में मददगार साबित होगी।

UP दिहाड़ी मजदूर भरण पोषन भत्ता योजना 2021 लागू- उत्तर प्रदेश मजदूर भत्ता योजना

उत्तर प्रदेश सरकार ने दैनिक वेतन भोगी श्रमिकों के लिए UP योगी मजदूर भत्ता योजना आवेदन पत्र 2021 को आमंत्रित करना शुरू कर दिया है। यह योजना यह सुनिश्चित करेगी कि श्रमिकों को यूपी सरकार से पर्याप्त सहायता मिले।

पात्रता मानदंड / दस्तावेज सूची-

मजदूर उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए। मजदूरों के पास UP श्रम विभाग, नगरपालिका परिषद/निगम या ग्राम सभा से पंजीकरण प्रमाण पत्र होना चाहिए।  उपरोक्त किसी भी विभाग में आवेदक पंजीकृत है, तो सहायता राशि सीधे उनके बैंक Account में भेजी जायेगी।

उत्तर प्रदेश मजदूर भत्ता योजना 2021 ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म-

सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट http://upbocw.in/english/index.aspx पर जाएं।

मुख्य Menu में मौजूद “Worker” टैब पर स्क्रॉल करें, और फिर “श्रमिक पंजीकरण/ सुधार” टैब पर क्लिक करें।

फिर यूपी श्रम पंजीकरण ऑनलाइन आवेदन पत्र दिखाई देगा।

आवेदक Aadhar card number, मंडल, जिला, mobile number भरे, UP श्रम विभाग के साथ पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए “Aavedan/ Sanshodhan Karein” बटन पर क्लिक करें।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है, कि यूपी श्रम विभाग के साथ पंजीकृत सभी मजदूर यूपी दिहाड़ी मजदूर श्रम बीमा भत्ता योजना के लिए पात्र होंगे।

ऑफलाइन आवेदन फॉर्म-

दैनिक वेतन भोगी श्रमिकों को या तो नगरपालिका परिषद या नगर निगम/ नागरिक निकायों या ग्राम पंचायत में ऑफ़लाइन आवेदन के लिए जाना होगा।

official website

Leave a Comment