Swami Vivekananda Paryatan Yojana 2021 | How to Apply, Benefits & Registration Process

Swami Vivekananda Paryatan Yojana 2021:- यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना (SVEPYY) शुरू की हैं। इस योजना के तहत यूपी के श्रमिकों और उनके बच्चों के लिए धार्मिक स्थलों पर यात्रा करने जा सकते है। राज्य सरकार धार्मिक स्थलों पर जाने के लिए प्रत्येक कार्यकर्ता को 12000 रूपये की वित्तीय सहायता प्रदान करती है। इस योजना का लाभ पाने के लिए, श्रमिकों को खुद को श्रमिक कल्याण बोर्ड, उत्तर प्रदेश के तहत पंजीकृत करवाना होगा। 

UP श्रम कल्याण बोर्ड द्वारा 1.5 करोड़ श्रमिकों के लिए आवेदन आमंत्रित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस योजना के अंतर्गत यूपी के शहरों के नाम निर्धारित किये गये हैं। इस योजना का उद्देश्य धार्मिक और ऐतिहासिक स्थानों के महत्व के बारे में श्रमिक परिवारों के बच्चों में जागरूकता विकसित करना है। इस योजना से राज्य के लगभग 20500 श्रमिक लाभान्वित होंगे। इच्छुक श्रमिकों को ऑनलाइन/ऑफलाइन मोड पर आवेदन करके इस योजना का लाभ उठाना चाहिए।

Contents

Swami Vivekananda Paryatan Yojana 2021:-

Swami Vivekananda Paryatan Yojana 2021

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना  2021 – ओवरव्यू

योजना का नामस्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना (SVEPYY)
द्वारा लॉन्च किया गयाउत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थीउत्तर प्रदेश के नागरिक
प्रमुख लाभ12000 सब्सिडी प्रदान करना
योजना उद्देश्यधार्मिक यात्रा के लिए श्रमिकों को वित्तीय सहायता प्रदान करना।
योजना किसके तहतराज्य सरकार के तहत
राज्य का नामउत्तर प्रदेश
पद श्रेणीयोजना
आधिकारिक वेबसाइटuplabour.gov.in

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना पात्रता-

  • आवेदक UP (उत्तर प्रदेश) राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • केवल श्रमिक और उनके परिवार इस योजना के लिए पात्र हैं।
  • आवेदक को श्रमिक कल्याण बोर्ड के तहत पंजीकृत होना चाहिए।
  • आवेदक का अपना बैंक खाता होना चाहिए।
स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के लाभ-
  • इस योजना के तहत आवेदकों को धार्मिक स्थलों पर जाने के लिए 12000 / – रूपये  की वित्तीय सहायता मिलेगी।
  • फैक्टरी कर्मचारी को अपने बच्चों के साथ धार्मिक स्थानों पर यात्रा करने का अवसर मिलेगा।
  • राज्य के 20500 कारखानों में काम करने वाले 6.5 लाख श्रमिकों को इस योजना के माध्यम से लाभ मिलेगा।
  • इस योजना के तहत मथुरा, प्रयागराज, वाराणसी, गोरखनाथ मंदिर, शाकुंभरी देवी, विंध्यवासिनी देवी और हस्तिनापुर (मेरठ) जैसे सभी धार्मिक शहरों का दौरा किया जाएगा।
SVEPYY के धार्मिक स्थल-
  • मथुरा
  • अयोध्या
  • वाराणसी
  • प्रयागराज
  • हस्तिनापुर (मेरठ)
  • गोरखपुर का गोरखनाथ मंदिर
  • शाकुंभरी देवी और वैष्णो देवी मंदिर
स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना दस्तावेज-
  • श्रमिक कार्ड
  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • राशन पत्रिका
  • पते का सबूत
  • निवास प्रमाण
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • आवेदक श्रमिक बैंक खाते की पासबुक के पहले पृष्ठ की फोटोकॉपी

नोट:- यात्रा के दौरान अपना आधार कार्ड अपने साथ रखना जरुरी है।

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना आवेदन फॉर्म-
  • सबसे पहले, आवेदकों को आधिकारिक वेबसाइट uplabour.gov.in खोलनी होगी।
  • आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज से विशेष योजना से अधिक विकल्प पर जाएं।
  • स्वामी विवेकानंद पर्यटन योजना पर क्लिक करें।
  • आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर एक आवेदन फॉर्म खुलेगा।
  • इस फॉर्म को डाउनलोड करें या प्रिंट आउट लें।
  • आवेदक का नाम, पता, कार्य स्थल, मोबाइल नंबर आदि जैसे आवश्यक विवरण भरें।
  • अंत में, अनिवार्य दस्तावेज संलग्न करें और इसे श्रम विभाग में जमा करें।

महत्वपूर्ण लिंक-

Apply Online      – Registration Form

Official Website

Swami Vivekananda Paryatan Yojana के लिए आवेदन कौन कौन कर सकते है।

UP राज्य के लगभग 20500 श्रमिक, जो की आर्थिक स्थिति से कमजोर है उनके लिए है यह योजना।

Q. यूपी राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना का उद्देश्य क्या है?

Ans. स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना का उद्देश्य यूपी राज्य के पंजीकृत श्रमिकों की मौद्रिक सहायता प्रदान करना है।

Q. उत्तर प्रदेश सरकार की स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत वित्तीय प्रोत्साहन आवेदकों को क्या मिलता है?

Ans. पात्र लाभार्थियों को यूपी तीर्थ यात्रा योजना के तहत सूचीबद्ध पर्यटन स्थलों पर जाने के लिए 12000 रुपये का प्रोत्साहन मिलेगा।

Q. मैं यूपी राज्य का लाइसेंस प्राप्त / पंजीकृत श्रमिक नहीं हूं। क्या मैं SVEPYY योजना 2021 के लाभों का लाभ उठा सकता हूँ?

Ans. योजना का लाभ पाने के लिए आवेदकों को एक लाइसेंस प्राप्त या पंजीकृत कार्यकर्ता होना चाहिए

Leave a Comment