राम मंदिर- फर्जी यूपीआई आईडी पर चंदा मांग रहे ठग

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का कार्य जोर शोर से चल रहा है। मंदिर निर्माण के लिए धन एकत्रित करने और भगवान श्रीराम की जन्मभूमि से लोगों को जोड़ने के लिए देशभर में निधि समर्पण अभियान योजना जारी है। दुनियाभर से लोग भगवान राम के इस पवित्र मन्दिर निर्माण के लिए आर्थिक सहयोग कर रहे हैं। इसी बीच खबर आई है की ठग लोगों को मैसेज भेजकर फर्जी यूपीआई से चंदा मांग रहे हैं और लाेग भी राम के नाम पर बनी यूपीआई आईडी पर ऑनलाइन राशि ट्रांसफर कर ठगी का शिकार हाे रहे हैं।

Shree Ram Nidhi Funds

साइबर एक्सपर्ट ने ऐसी ही 12 फर्जी यूपीआई आईडी काे बैंक से बंद करवाया हैं। हालांकि अब तक मामले में कितने लाेग फर्जी यूपीआई आईडी से ठगी का शिकार हुए इसका पता नहीं चल पाया है। एक्सपर्ट श्याम चंदेल ने बताया कि लोगों से पैसे एंठने के लिए ठगों ने शातिर तरीका निकाला है। वे असली आईडी से मिलते-जुलते नामों की ऐसी आईडी बना रहे हैं। वेबसाइट पर दी गई एसबीआई की आईडी shriramjanmbhoomi@sbi है। ठग ने sriramjanmbhomi@sbi नाम से आईडी बनाई है। इसमें सिर्फ अंग्रेजी का एच और ओ शब्द कम है। अब भी कई ऐसी आईडी चल रही है।

ऐसे बचें इस फ्रॉड से

चंदा देने से पहले यूपीआई आईडी का रजिस्टर्ड नेम अवश्य देखें क्योंकि ठग ने यूपीआई आईडी रामजन्म भूमि के नाम से बनाई हाेगी, लेकिन बैंक के नाम से उसकी चोरी पकड़ सकते हैं।

बतादें की इससे पहले भी राम मंदिर निर्माण के चंदे पर ठगी के मामले समाने आये है। यूपी के मुरादाबाद में इसी तरह का एक केस दर्ज हुआ है। यहां राम मंदिर निर्माण के नाम पर कथित हिंदू संगठनों की और से ठगी की जा रही थी। राम मंदिर निर्माण से जुड़ी मुरादाबाद की समिति ने इसकी शिकायत दर्ज कराई थी। FIR दर्ज हो गई थी।

इस बारे में राम मंदिर निधि समर्पण समिति के मंत्री प्रभात गोयल ने बताया, हमारे कुछ कार्यकर्ता 16 जनवरी को एक जगह चंदा मांगने गए थे तो लोगों ने उनसे कहा कि वो तो दो दिन पहले ही चंदा दे चुके। उन्होंने अपनी 21 रुपए और 25 रुपए की रसीदें भी दिखाईं। जब हमने पूछा कि चंदा किसको दिया तो उन्होंने कुछ लोगों के नाम बताये। जब हमने उन्हें फोन किया और पूछा कि क्या आप राम मंदिर के नाम पर चंदा इकट्ठा रहे हैं तो वो बोले- हां। जबकि राम मंदिर के नाम पर चंदा इकट्ठा करने का उनके पास कोई अधिकार नहीं है।

उन्होंने बताया की राष्ट्रीय बजरंग दल के नाम से इन लोगों ने संगठन बनाया है। जिसका नाम विश्व हिंदू परिषद की युवा इकाई बजरंग दल से मिलता-जुलता है। गोयल का कहना है कि बजरंग दल को बदनाम करने के लिए मिलते-जुलते नाम से संगठन बनाकर ये काम किया जा रहा है। जिन लोगो के पास वाकई अधिकारी हैं चंदा जुटाने का, उनके पास आपको 21 और 25 रुपए का कोई विकल्प ही नहीं मिलेगा। उनके पास 10, 100, और 1000 रुपए की पर्चियां हैं, जिनपर भगवान श्रीराम का चित्र है। हमारे यहां चंदा लेने कोई अकेला व्यक्ति नहीं जाता। जिस क्षेत्र में चंदा होता है, उस क्षेत्र की निश्चित टीम है, निश्चित पदाधिकारी हैं। वे ही जाते हैं।

Leave a Comment