जानिए नए वित्त वर्ष 2021-22 में क्या क्या हुए बदलाव, 1 अप्रैल 2021 से लागु हुआ नया वित्त वर्ष

New Rules from 1st April 2021 :- देश में 1 अप्रैल नया वित्त वर्ष 2021-22 शुरू हो गया है। इसके साथ ही देश में कुछ नए नियम लागू हो गये हैं। आइये जानते है 1 अप्रैल से देश में जो नए नियम लागू हुए हैं उनके बारे में….

टीडीएस (TDS)

सरकार ने आयकर अधिनियम में एक नई धारा 206AB जोड़ दिया है। इस धारा के अनुसार, अगर आप डीटीएस नहीं फाइल करते हैं, तो आपसे दोगुना टीडीएस वसूला जायेगा। वहीं नए नियम के मुताबिक, 1 जुलाई 2021 से टीडीएस और टीसीएल पर 10-20% टैक्स वसूला जायेगा। जो पहले 5-10% था। जो आईटीआर नहीं फाइल करते हैं, उनसे दोगुना टीडीएस और टीसीएस या 5% टैक्स वसूला जायेगा। दोनों में से जो भी अधिक होगा।

New Rules from 1st April 2021

नया टैक्स रिजीम चुनने का ऑप्शन- New Rules from 1st April 2021

केंद्र सरकार ने बजट 2021-22 में सभी को नया टैक्स रिजीम और स्लैब चुनने का विकल्प दिया है। जो नये वित्त वर्ष (1 अप्रैल) से ही लागू हो गया है। इस नये कर प्रणाली में किसी भी तरह के रिबेट या डिडक्शन का लाभ प्राप्त नहीं होगा। हालांकि, यह नया कर प्रणाली वैकल्पिक है। इसमें अगर करदाता यह चाहता है कि उसका टैक्स स्लैब पुराना हो तो वह पुराने टैक्स स्लैब के अनुसार से दे सकता है। इस नये आयकर नियम में पांच लाख रुपये तक की आय पर किसी भी तरह का टैक्स नहीं लगेगा।

75 साल से अधिक आयु के लोगों को टैक्स नहीं देना होगा-

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2021-22 में वरिष्ठ नागरिकों को राहत देते हुए कहा था कि अब 75 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को टैक्स देने के आवश्यकता नहीं है। बतादें कि यह उन वरिष्ठ नागरिकों पर लागू होगा जो पेंशन या फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज पर निर्भर हैं।

पीएफ पर टैक्स के नियम-  New Rules from 1st April 2021

बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा था कि अब जो भी पीएफ खाते में 2 लाख 50 हजार रुपये से अधिक जमा करता है उसे टैक्स देना पड़ेगा। यह सिर्फ  कर्मचारियों पर लागू होगा। यह नियम किसी कंपनी पर नहीं लागू होगा।

पहले से ही भरे गए आटीआर फॉर्म-

पहले से ही भरा गया आईटीआर फॉर्म व्यक्तिगत करदाताओं को दिया जायेगा। यह आईटीआर फाइल करने के तरीके को सुगम बनाने के लिए किया जा रहा है। जिससे उसे टैक्स अदायगी, सैलरी से होने वाली आय और टीडीएस में ज्यादा जद्दोजहद न करनी पड़े। इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करते वक्त सब कुछ पहले ही भरा हुआ मिलेगा।  इसके साथ बैंक या पोस्ट ऑफिस से मिलने वाला ब्याज आदि भी पहले से ही भरा गया होगा।

एलटीसी कैश वाउचर योजना के तहत बिलों का सबमिशन- New Rules from 1st April 2021

एलटीसी कैश वाउचर योजना के अंतर्गत कर लाभ लेने की अंतिम तारीख 31. 03. 2021 थी। इसका फायदा लेने के लिए टैक्स दाता को 31 मार्च 2021 तक बिल्स जमा करने थे। अब वेंडर को जीएसटी नंबर और राशि दोनों का जिक्र करना अनिवार्य होगा। इसका लाभ लेने के लिए कर्मचारी को एलटीए का राशि का तीन गुना खर्च करना होगा या जो सामान खरीदेगा उस पर 12% से अधिक जीएसटी जमा किया होना चाहिए।

Leave a Comment