कैसे पता करे की राम मंदिर के लिए दिए जाने चंदे की रशीद असली है या नकली ?

राम मंदिर के लिए चंदा करने का अभियान:- अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर के निर्माण का काम जोरों पर चल रहा है, साथ ही मंदिर निर्माण के लिए चंदा जुटाने का काम भी जारी है। इसी बीच खबर आई है कि कुछ राम मंदिर के नाम पर फर्जी पर्ची काट कर लोगों के साथ धोखाधड़ी कर रहे हैं।  हालांकि पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ मामले दर्ज कर रही है, उन्हें पकड़ रही है लेकिन अब ज़रा सोचिए अगर कोई आपके घर राम मंदिर के लिए चंदा मांगने आए तो आपको कैसे पता चलेगा कि चंदा मांगने वाला शख्स सही है? आपको जो रसीद दी गई है वो असली है? या आप भी किसी धोखाधड़ी का शिकार हो रहे हैं। अब ये आप कैसे पता कर सकते हैं आज के इस लेख में हम आपको ये बताएंगे।

इस अभियान से जुड़ी कुछ खास बातें-

बतादें कि लोगों से चंदा लेने का अभियान मकर संक्रांति 2021 से शुरू हुआ था और इसको निधि समर्पण अभियान’ नाम दिया गया है। पहला चंदा देश के प्रथम नागरिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से लिया गया। राष्ट्रपति ने 5 लाख 100 रुपए का चंदा दिया। श्री राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट और विश्व हिंदू परिषद मिलकर देश के 5 लाख गांवों के 1 करोड़ घरों से यह चंदा जुटाएंगे। राम मंदिर चंदा अभियान 15 जनवरी से शुरू होकर 27 फरवरी (माघ पूर्णिमा) तक चलेगा।

Ram Mandir Trust Receipt

बता दें, ट्रस्ट ने 10, 100 तथा 1000 रुपए के कूपन छपवाए हैं। ये कूपन चंद की रसीद के रूप में दिए जाएंगे, ताकि पारदर्शिता रहे। इस अभियान में साधु-संत भी शामिल होंगे। ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि 10 रुपए के 4 करोड़, 100 रुपए के 8 करोड़ तथा 1000 रुपये के 12 लाख कूपन छपवाए गए हैं। 2000 रुपए से ज्यादा सहयोग करने वालो को रसीद दी जाएगी। राम मंदिर के निर्माण में विदेशी फंड का इस्तेमाल नहीं होगा। साथ ही कंपनियों के कारपोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) फंड का इस्तेमाल भी मंदिर निर्माण में नहीं होगा। ट्रस्ट साफ कर चुका है कि इस चंद के लिए समाज के सभी वर्गों से सम्पर्क किया जाएगा।

Ram Mandir Chanda Receipt Fake

VHP के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल अनुसार-

रसीदबुक पर श्रीरामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट लिखा है।

Donation देने वाले इस बात को इनश्योर करें कि पर्ची पर लोगो और नाम सही लिखे हैं।

ये अभियान VHP की और से श्रीरामभूमि तीर्थक्षेत्र के लिए किया जा रहा है और वही आधिकारिक संस्था है जो राममंदिर को बनाएगी।

जो पैसा जमा होता है उसे 48 घंटों के अंदर ही ट्रस्ट के खाते में जमा कराया जाता है।

टोली प्रमुख को एक बैंक कोड अलॉट किया गया है जिसके आधार पर वह अपनी नजदीकी शाखा में पैसे जमा करा सकता है।

केवल तीन बैंकों (SBI, BOB और PNB) में ही ये पैसा जमा किया जाता है। 

देश भर में 10 लाख टोलियां बनाई हैं।

इन टोलियों में कुल 40 लाख कार्यकर्ता शामिल हैं।

पैसे देते समय रखे कुछ बातों का ध्यान-

असली पर्ची पर श्रीरामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट लिखा हुआ है।

असली पर्ची पर केवल 10, 100 और 1000 रुपये की है।

नकली पर्चियों पर मिलते जुलते नाम हो सकते हैं।

नकली पर्चियों पर भाषा और मात्रा की गलती हो सकती है।

ऑनलाइन भी दे सकते हैं चंदा

मंदिर निर्माण के लिए ऑनलाइन चंदा देने के लिए आपको श्रीरामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट की वेबसाइट पर जाना होगा। यहां तीन बैंक के QR कोड दिए गए हैं। उनको स्कैन करके आप चंदा दे सकते हैं। वहीं अकाउंट डिटेल के जरिये भी पैसा श्रीरामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट तक पहुंचा सकते हैं। यहां पैसा देने पर आपको पक्की रसीद भी प्राप्त होगी। इसके अलावा ट्रस्ट तक पैसा आप चेक के माध्यम से भी पहुंचा सकते हैं।

Leave a Comment