प्रकाश जोशी ने वितरित किया बाल साहित्य

(उत्तराखण्ड मिरर)

पिथौरागढ़: सुप्रसिद्ध समाजसेवी प्रकाश जोशी के सहयोग से बच्चों को बाल साहित्य वितरित किया गया। राजकीय कन्या जूनियर हाईस्कूल मंडप में एक कार्यक्रम आजोजित हुवा। जिसमें बालसाहित्यकार ललित शौर्य द्वारा लिखी बाल कहानी संग्रह दादाजी की चौपाल को प्रकाश जोशी के आर्थिक सहयोग से विद्यालय के मेधावी छात्र-छात्राओं को वितरित किया गया।

कार्यक्रम में बोलते हुए समाजसेवी प्रकाश जोशी ने कहा, बाल साहित्य आज के समय की महत्वपूर्ण आवश्यकता है। इसके माध्यम से बड़े परिवर्तन लाये जा सकते हैं। बच्चे के अंदर संस्कारोँ का बीजारोपण किया जा सकता है। मेरा उद्देश्य हर बच्चे तक सकारात्मक साहित्य पहुंचाना है। वो आगे भी बच्चों को बाल साहित्य वितरित करेंगे। उन्होंने कहा स्कूली पाठ्यक्रम के अतिरिक्त भी हमें अच्छी पुस्तकें पढ़नी चाहिए।

समाजसेवी , कुशल उद्घोषक जुगल किशोर पांडेय ने कहा साहित्य संस्कार की जननी है। बाल साहित्य से बच्चों के भीतर प्रेरणा का जागरण होता है। उनमें सकारात्मक वृत्ति जन्म लेती है। प्रकाश जोशी ने बाल साहित्य वितरित कर एक नई परंपरा को जन्म दिया है। बाल साहित्यकार ललित शौर्य ने कहा बच्चों तक बाल साहित्य पहुँचना सुखद अनुभूति देता है।

एक लेखक यही चाहता है उसकी कृति अधिक से अधिक बच्चों के हाथों तक पहुँचे। प्रकाश जोशी ने बाल साहित्य बच्चोँ तक पहुँचाकर बच्चों और लेखक दोनों का उत्साह वर्द्धन किया है। विद्यालय के प्रधानाचार्य हरीश चंद्र पाण्डेय ने सभी आगन्तुक अथितियों का हार्दिक धन्यवाद किया।

उन्होंने प्रकाश जोशी और ललित शौर्य के संयुक्त प्रयासों की प्रसंसा की। इस अवसर पर भुवन पांडेय, संगीता भैसोड़ा, राकेश पुरी, रमेश चंद्र जोशी, रवि पांडेय, त्रिभुवन आदि लोग मौजूद रहे।

One thought on “प्रकाश जोशी ने वितरित किया बाल साहित्य

  • September 25, 2019 at 6:34 pm
    Permalink

    सराहनीय पहल

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *