राजकुमार जैन राजन की नेपाली में अनुदित पुस्तकों का लोकार्पण उज्जैन में

  • (उत्तराखण्ड मिरर)
  • समाचार : पारुल व्यास

उज्जैन: आकोला(राजस्थान) के सुपरिचित साहित्यकार, संपादक,प्रकाशक, समाजसेवी श्री राजकुमार जैन राजन की बाल साहित्य कृतियों के नेपाल से प्रकाशित नेपाली अनुदित संस्करण का लोकार्पण उज्जैन में हुआ।

उज्जैन की कालिदास अकादमी परिसर में “शब्द प्रवाह सृजन मंच” उज्जैन व राष्ट्रीय पुस्तक न्यास,नईदिल्ली के भव्य आयोजन में राजन के बाल कहानी संग्रह ” मन के जीते जीत” एवम बाल कविता संग्रह “रोबोट एक दिला दो राम” के नेपाली संस्करण “मनले जिते जित” एवम “एउटा रोबट दिलाइदेऊ राम” का लोकार्पण सम्पन्न हुआ।

मंचस्थ अतिथि राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के संपादक डॉ. लालित्य ललित, विक्रम विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति, मध्य प्रदेश हिंदी ग्रन्थ अकादमी के निदेशक व प्रसिद्ध साहित्यकार, चिंतक डॉ. राम राजेश मिश्र, कुलानुशासक हिंदी विभागाध्यक्ष विक्रम विश्वविद्यालय एवम प्रसिध्द साहित्यकार डॉ. शैलेन्द्र कुमार शर्मा, सुप्रसिद्ध संपादक, साहित्यकार श्री संदीप सृजन, डॉ राजेश रावल, श्री राजेश राज आदि के करकमलों द्वारा इन कृतियों का लोकार्पण सम्पादित हुआ।

इस आयोजन में सर्व श्री गोविंद शर्मा(संगरिया), डॉ जयप्रकाश पंड्या ज्योतिपुंज(उदयपुर), जयसिंग आशावत(नैनवा), डॉ गरिमा दुबे(इंदौर), डॉ महेंद्र अग्रवाल(शिवपुरी), श्री अशोक व्यास (भोपाल), श्रीमती शशि सक्सैना (जयपुर), श्री प्रदीप नवीन(इंदौर) सहित देश के कई ख्यातनाम साहित्यकार उपस्थित रहे।

ज्ञातव्य है कि राजकुमार जैन राजन बाल साहित्य के उन्नयन एवम संवर्द्धन के लिए प्रतिबद्ध व बाल साहित्य सर्जक के रूप में बाल साहित्य जगत में सुपरिचित नाम है। इनकी अब तक 36 बाल सहित्य कृतियां प्रकाशित हो चुकी है। देश -विदेश में कई भाषाओं में इनकी कृतियों का अनुवाद हुआ है।

बाल कहानी संग्रह ” मन के जीते जीत” में सकारात्मक सोच प्रदान करने वाली 30 कहानियां प्रकाशित है। इस कहानी संग्रह का नेपाली अनुदित संस्करण “मनले जिते जित ” नाम से “शब्द संयोजन प्रकाशन” काठमांडू , नेपाल से, नेपाल सरकार के आई एस बी एन नम्बर के साथ प्रकाशित हुआ है जिसका नेपाली भाषा मे अनुवाद नेपाली/हिंदी की प्रसिद्ध साहित्यकार सुमि लोहनी ने किया है।। इसका प्रकाशन “शब्द संयोजन प्रकाशन, काठमांडू , नेपाल से, नेपाल के isbn। नम्बर के साथ हुआ है.

बाल कविता संग्रह ” रोबोट एक दिला दो राम ” में राजकुमार जैन राजन की 47 कविताएं संग्रहित है जिसमे बच्चों को प्रकृति प्रेम, पर्यावरण संरक्षण की सीख देते हुये प्रकृति के विविध आयामों को सुंदर तरीके से प्रस्तुत करते हुए आधुनिक वैज्ञानिक युग से जोड़ने वाली कविताये संग्रहित है।

इस बाल कविता संग्रह का नेपाली भाषा मे अनुदित संस्करण ” एउटा रोबट दिलाईदेऊ राम ” शीर्षक से दीपश्री क्रिएटिव मीडिया पब्लिसिंग हाउस, काठमांडू नेपाल से, नेपाल के आई एस बी एन के साथ प्रकाशित हुआ है। इस बाल कविता संग्रह का अनुवाद भी नेपाल की ख्यातनाम लेखिका , शिक्षाविद सुमि लोहनी ने किया है।

भारतीय रचनाकार की नेपाल से प्रकाशित ये कृतियाँ भारत -नेपाल मैत्री व सांस्कृतिक संम्बंधों को सुदृढ़ करने का काम करेगी। इससे पूर्व राजकुमार जैन राजन के कविता संग्रह “खोजना होगा अमृत कलश” का भी नेपाली में अनुदित संस्करण प्रकाशित हो चुका है जिसका लोकार्पण नेपाल ,प्रदेश 2 के मुख्यमंत्री द्वारा किया गया है।

3 thoughts on “राजकुमार जैन राजन की नेपाली में अनुदित पुस्तकों का लोकार्पण उज्जैन में

  • September 10, 2019 at 6:33 pm
    Permalink

    एक सुयोग्य लेखक को पुस्तक लोकार्पण की हार्दिक शुभकामनाएं…..

    Reply
  • September 10, 2019 at 11:59 pm
    Permalink

    मन के जीते जीत और रोबोट एक दिला दो राम दौनों बाल साहित्य पुस्तकों का विमोचन उज्जैन में किया गया, लेखक श्री राजकुमार जैन राजन की उम्दा संस्करण के लिए उन्हें हार्दिक बधाई देते हैं

    Reply
  • September 11, 2019 at 7:18 am
    Permalink

    आपके साहित्यिक कार्य के लिए मेरी हार्दिक बधाइयां तथा शुभकामनाएं आदरणीय राजकुमार जैन राजन जी।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *